देश में बढ़ रही बेरोज़गारी का फयदा उठा रही है जोमाटो, स्विग्गी जैसी कम्पनिया

देश में बढ़ रही बेरोज़गारी और नौकरी की कमी का फयदा ऑनलाइन कम्पनिया बखूबी उठा रही है। इसमें स्विग्गी जोमाटो अमेज़न और फ्लिपकार्ट जैसी कई कम्पनिया शामिल है | यहाँ सभी कम्पनिया अपने निम्न वर्ग के कर्मचारियों को महज़ 4000-5000 रुपये के वेतन पर काम करा रही है | ऐसी स्थिति में बेरोज़गारी अपने चरम सिमा पर पहुंच गयी है |

देश के युवा पीढ़ी जो एमबीए , पोस्ट-ग्रेजुएशन, ग्रेजुएशन, बी-टेक आदि किये हुए है । नौकरी की कमी के कारण उनकी मज़बूरी ऐसी कंपनियों तक पहुंच देती है जहा न तो उनको अच्छी सैलरी मिलती है और न ही अच्छी पोस्ट वह मज़बूरी में डिलीवरी पार्टनर, पैकिंग, सफाई-कर्मचारी आदि का काम करने के लिए मजबूर है|

स्विग्गी कर्मचारी से बात

एक स्विग्गी के कर्मचारी ने बताया की उन्हें कंपनी के द्वारा केवल 200 रुपये के मिनिमम गारंटी के साथ काम दिया जा रहा है जिसमे हमे 12:00 बजे दोपहर से लेकर रात के 11:30 बजे रात तक ड्यूटी देनी पड़ती है । जिसमे हमे रेस्टुरेंट से खाना लेकर कस्टमर तक पहुंचना पड़ता है। स्विग्गी कंपनी द्वारा दिए गए 200 रुपए मिनिमम गारंटी में ही हमे पेट्रोल का खर्चा और दिन का खाना को खाना पड़ता है जिसके बाद हमरे दिन भर की कमाई केवल 50-60 रुपये ही बचती है । देश में रोज़गार की कमी के कारण पढ़े-लिखे युवा ऐसे कामो को करने के लिए मंज़बूर है|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close