पारसनाथ: झारखण्ड की सबसे ऊँची चोटी

सम्मेद शिखरजी या पारसनाथ पर्वत भारत के झारखंड राज्य के गिरीडीह ज़िले में छोटा नागपुर पठार पर स्थित झारखण्ड की सबसे ऊँची पहाड़ी है जो विश्व में जैन धर्म का सबसे महत्वपूर्ण जैन तीर्थ स्थल भी है। ‘श्री सम्मेद शिखरजी’ के रूप में विख्यात इस पुण्य स्थल में जैन धर्म के 24 में से 20 तीर्थंकरों (सर्वोच्च जैन गुरुओं) ने इसी स्थल पर मोक्ष की प्राप्ति की। जैन धर्म के 23 वें तीर्थकर भगवान पार्श्वनाथ ने भी यही अपना निर्वाण प्राप्त किया था। 1,350 मीटर (4,430 फ़ुट) ऊँचा यह पहाड़ झारखंड का सबसे ऊंचा स्थान भी है। यह लगभग 27 किमी के क्षेत्र में फैला हुआ है।

पारसनाथ जैन धर्म के अनुयायिओं के लिए सबसे महत्वपूर्ण तीर्थ स्थल है। यहाँ हर साल जैन धर्म के लाखो अनुयायी आते है और साथ-साथ अन्य पर्यटक भी पारसनाथ पर्वत का भ्रमण करने आते है। गिरीडीह स्टेशन से पारसनाथ पहाड़ की दुरी करीबन 30 किमी है । पारसनाथ की चढ़ाई उतराई तथा यात्रा करीब 27 किमी की है। सम्मेद शिखर जैन धर्म को मानने वालों के लिए सबसे प्रमुख तीर्थ स्थान है। यह जैन तीर्थों में सर्वश्रेष्ठ माना जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close